Kitaab Waale

Achoot Samasya - Bhagat Singh | अछूत समस्या - भगत सिंह

Achoot Samasya - Bhagat Singh | अछूत समस्या - भगत सिंह

हमारे देश- जैसे बुरे हालात किसी दूसरे देश के नहीं हुए। यहाँ अजब-अजब सवाल उठते रहते हैं। एक अहम सवाल अछूत-समस्या है। समस्या यह है कि 30 करोड़ की जनसंख्या वाले देश में जो 6 करोड़ लोग अछूत कहलाते हैं, उनके स्पर्श मात्र से धर्म भ्रष्ट हो जाएगा! उनके मन्दिरों में प्रवेश से देवगण नाराज हो उठेंगे! कुएं से उनके द्वारा पानी निकालने से कुआँ अपवित्र हो जाएगा! ये सवाल बीसवीं सदी में किए जा रहे हैं, जिन्हें कि सुनते ही शर्म आती है।

Read more

Kitaab Waale

कारे जहाँ दराज़ है- कुर्रतुल ऐन हैदर (संस्मरणात्मक तथा आत्मकथात्मक औपन्यासिक कृति व ग्रन्थावली 4 खण्डों में )

कारे जहाँ दराज़ है- कुर्रतुल ऐन हैदर (संस्मरणात्मक तथा आत्मकथात्मक औपन्यासिक कृति व ग्रन्थावली 4 खण्डों में ) Urdu Bazaar

कुर्रतुल ऐन हैदर की महत्त्वपूर्ण संस्मरणात्मक, आत्मकथात्मक औपन्यासिक कृति 'कारे जहाँ दराज़ हैं' का हिन्दी अनुवाद चार खण्डों में प्रकाशित करने में वाणी प्रकाशन ग्रुप हर्ष का अनुभव कर रहा है। इस कृति का हिन्दी अनुवाद किया है...

Read more

Kitaab Waale

जौन एलिया और अस्तित्ववाद

जौन एलिया और अस्तित्ववाद Urdu Bazaar

आज के समय में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति हो जो साहित्य से जुड़ा हुआ हो और जौन एलिया के नाम से अपरिचित हो। जौन साहब उन कुछ शायरों में से हैं जिन्हें वो लोग भी पढ़ते हैं जो उर्दू पढ़ना और लिखना नहीं जानते। उनके अंघडपन और बेबाक़ लहजे से लोग बहुत प्रभावित रहे हैं पर उनकी ज़िंदगी का एक ऐसा पहलू हैं जो शायद लोगों के सामने तो रहा पर फिर भी पाठकों के दिलो से छिपा रह गया।

Read more

Kitaab Waale

मंटो एक बदनाम लेखक- किस्से-कहानियों की समीक्षा

मंटो एक बदनाम लेखक- किस्से-कहानियों की समीक्षा Urdu Bazaar

अगर हम उर्दू साहित्य की बात करें तो मंटो एक बदनाम लेखक हैl इसका एक कारण यह भी है की वह एक ऐसे समय पर लिख रहे थे जब समाज में प्रगतिशील लोगों ऐंव लेखकों...

Read more

123