Skip to content

Anand Karaj

by Balwant Singh
Original price ₹ 100.00
Current price ₹ 92.00
Binding
Product Description
बलवंत सिंह सरीखे अनुभवी कथाकार से ही मुमकिन था कि किसी बहुत पुरानी कहानी को भी नये – नवेले, अनूठे और समसामयिक अंदाज में पाठकों के सामने ले आयें ! कहानी ‘दंड’ में बिना कहे प्रेमिका के दर्द को समझनेवाला प्रेमी हो या प्रेमिका के लिखे आखिरी ख़त को खोलकर न देखनेवाला प्रेमी, जिसने दृढनिश्चय किया था कि वह अपनी प्रेम-कहानी को अंत तक कभी नहीं पहुँचाने देगा-जीवनपर्यन्त ! दोनों ही कहानियों में निहित प्रेम की भिन्न परिभाषाएं नितांत एकांत पल में हद के भीतर इस प्रकार के प्रेमी को पाने की आकांक्षा जाग्रत करती हैं ! इंसानी रिश्तो की जिस बारीकियों को बलवंत जी ने भाषा की सरलता में उतार दिया है वह अदभुत है ! आज की इस भागती-दौड़ती जिंदगी में फुर्सत के इतने निजी पल असंभव से लगते हैं ! लेकिन बलवंत सिंह की कहानियां आशा के उस दीप की तरह हैं जो अपनी बेहद सीढ़ी और सरल भाषा में हमें बताती हैं कि जीवन की असली खुशियाँ उन छोटे-छोटे पलों में ही छिपी हैं जो रोज हमारे आस-पास से गुजरती रहती हैं ! बलवंत जी की कहानियों के पात्र वही पुराने हैं, पर उन्हें देखने, आंकने टांकने का अंदाज बिलकुल नया है ! हमारे आस-पास की घटनाओं का बयान करती यह कहानियां समकालिक जीवन-छवियों से जोड़ने का एक सफल प्रयास करती हैं !