BackBack
-10%

Ant Anant

Suryakant Tripathi 'Nirala' (Author)

Rs 250.00 Rs 225.00

HardcoverHardcover
Description
यह संकलन संपूर्ण निराला-काव्य का परिचय देने के लिए नहीं, बल्कि इस उद्देश्य से तैयार किया गया है कि इससे पाठको को उसकी मनोहर तथा उदात्त झांकी-भर प्राप्त हो, जिससे वे उसकी ओर आकृष्ट हों और आगे बढे ! निराला की खासियत क्या है ? वे प्रचंड रूमानी होते हुए भी क्लासिकी हैं, भावुक होते हुए भी बौद्धिक, क्रन्तिकारी होते हुए भी परम्परावादी तथा जहाँ सरल हैं, वहां भी एक हद तक कठिन ! उनकी अपनी शैली है, अपनी काव्य-भाषा ! अभिव्यक्ति की अपनी भंगिमाएं और मुद्राएँ ! यह सर्वथा स्वाभाविक है कि उनके निकट जानेवाले पाठको से यह अपेक्षा की जाए कि उनका काव्यानुभव बच्चन, दिनकर या मैथिलीशरण गुप्त तक ही सीमित न हो ! जब वे किंचित प्रयासपूर्वक उक्त कवियों से हटकर उनके काव्य-लोक में प्रवेश करेंगे, तो पायेंगे कि उनकी तुलना में वे उनके ज्यादा आत्मीय है ! निराला के प्रसंग में सरलता का यह मतलब कतई नहीं है कि उनकी कविताएँ पाठकों के मन में बेरोक-टोक उतर जाएँ ! कारन यह है कि उनके लिए काव्य-राचन सशक्त भावनाओं का मात्र अनायास विस्फोट नहीं था, बल्कि वे अपनी प्रत्येक कविता को किंचित आयासपूर्वक पूरी बौद्धिक सजगता के साथ गढ़ते थे ! स्वभावतः उनकी सम्पूर्ण अभिव्यकि कलात्मक अवरोध से युक्त है, जिसे ग्रहण करने के लिए थोडा धैर्य और श्रम आवश्यक है ! इस पुस्तक में निराला के काव्य-विकास की तीनों अवस्थाओं-पूर्ववर्ती, मध्यवर्ती और परवर्ती-की सौ चुनी हुई सरल कविताएँ संकलित की गई हैं, प्राय रचना-क्रम से ! आरंभिक दोनों अवस्थाओं में सृजन के कई-कई दौर रहे हैं, कविता और गीत के, जिसकी सूचना अनुक्रम से लेकर पुस्तक के भीतर सामग्री-संयोजन तक में दी गई है ! पाठक मानेगे कि यह कविता की एक नई दुनिया है, अधिक आत्मीय और प्रत्यक्ष, जिसे भाषा सजाती नहीं, बल्कि अपनी भीतरी शक्ति से खड़ी करती है !
Additional Information
Binding

Hardcover