Skip to content
Limited Offer on Deewan e Meer & Rashmirathi Use coupon Code Sale20 Now!!!
Limited Offer on Deewan e Meer & Rashmirathi Use coupon Code Sale20 Now!!!

Chhainya Chhainya

by Gulzar
Sold out
Original price ₹ 150.00
Current price ₹ 135.00
Binding
Product Description
उनके पास लगभग उतने ही शब्द हैं, ठीक जितने 'आम आदमियों' के शब्दकोश में होते हैं । उनके पास लगभग नियत जीवन-हृदय हैं जैसे आम आदमियों की जिन्दगी में होते हैं । उनके पास क़रीब-क़रीब वही इच्छाएं हैं जो किसी भी आदमी के निजीपन में उसे तरंगित या उद्वेलित कर सकती हैं । हिन्दी फिल्मों की लोकप्रियता में संगीत के जादू से मिलकर जो मनहरणकारी क्रिया सम्पन्न होती है, उसका मूल भी यही बिन्दु है । लेकिन, गुलजार इसी मनहरणकारी व्यवसाय में अपनी संवेदन- शीलता से रिश्तों का अनूठा स्पर्श देने में कामयाब होते हैं । यही उनकी सबसे बड़ी खूबी बन जाती है । चाँद, रात, शाम, सुबह या सूरज उनके जरिए नई अर्थवत्ता ग्रहण करते चलते हैं । मुहावरों के नवप्रयोग होते हैं, प्रकृति की सूक्ष्म व्यंजनाएँ खुल जाती हैं । शायद इसलिए कि शब्दों की ध्वन्यात्मकता को उन्होंने अपने ढंग से परख लिया है । उनके पास लोक रस, गंध और स्पर्श सुरक्षित हैं । वे स्मृतियों और यथार्थ के बीच एक पुल बनाते हैं । उदासी का तहलका मचाने वाली खामोशी की सर्जना करते हैं । गुलजार के शब्द, लोक-हृदय के उफानों, सुखों, इच्छाओं तथा यथार्थ के प्रति उत्पन्न आवेगों को इस तरह बाँटते प्रतीत होते हैं कि हम उन्हें देखने, सुनने, महसूसने लगते हैं । उनकी काव्य-यात्रा प्रकृति और मन के बीच अपने आपको खो देने की प्रबल इच्छा से संपन्न होती है । 'बंदिनी' से 'इजाजत' के बाद 'सत्या' और 'फिलहाल' तक गुलजार ऐसी निर्बन्ध परंपरा में बदलते हैं जो हमें लगातार अपने साथ ले चलने के लिए खींचती है । हमारी अनुभूतियों को उठाती है और उन्हें बेजान होने से बचने का अवसर प्रदान करती है । वह स्पर्श करती है, गूंजती है और अपने भीतर खो जाने की माँग करती फिल्मों के सौदे में भी गुलजार उम्र उधेड़ के, साँस तोड़ के लम्हे देते हैं । 'छैंया-छैंया' गुलजार के प्रेमियों के लिए उन्हीं लम्हों का ताजा गुच्छा है ।