Skip to content

Chor Nikal Ke Bhaga

by Mrinal Pande
Original price ₹ 200.00
Current price ₹ 179.00
Binding
Product Description
समकालीन हिंदी कथा-साहित्य, नाटक और पत्रकारिता को अपनी रचनात्मक उपस्थिति से समृद्ध करनेवाली रचनाकार मृणाल पाण्डे की यह नवीनतम नाट्‌यकृति है । हिंदी रंगमंच पर भी यह नाटक पिछले दिनों विशेष चर्चित रहा है । हास्य-व्यंग्य से भरपूर अपने चुटीले भाषा-शिल्प और लोकनाट्‌य की अनेक दृश्य-छवियों को उजागर करता हुआ यह नाटक वस्तुत: हमारी कला-संस्कृति के बाजारीकरण से जुड़े सवालों को उठाता है । कला, सौंदर्य, प्रेम और परम्परा जैसे तमाम मूल्यों का सौदा हो रहा है, और इस सौदे में राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कितने ही सफेदपोश शामिल हैं । नाटक की उक्त अंतर्वस्तु को उद्‌घाटित करने के लिए लेखिका ने प्रेम और सौंदर्य के प्रतीक ताजमहल की चोरी की कल्पना की है । वास्तव में यह एक फंतासी भी है, जिसके सहारे लेखिका उन मानव-मूल्यों पर मँडराते खतरों को रेखांकित करती है, जिनकी सफलता मनुष्य जाति की तमाम कलात्मक उपलब्धियों को निरर्थक कर देगी । साथ ही वह कलाओं के उस जनतंत्र को भी लक्षित करती है, जिसे लेकर सत्ता-स्वायत्ता जैसी बहसें अक्सर होती रहती हैं । कहना न होगा कि मृणाल पाण्डे की यह नाट्‌यरचना अपने हास्यावरण में गम्भीर अर्थों तक जाने की क्षमता लिये हुए है ।