Skip to content

Garden Party Aur Anya Kahaniyan

by Katherine Mansfield
Sold out
Original price Rs 75.00
Current price Rs 67.00
Add Rs 500.00 or more in your cart to get Free Delivery
Free Reading Points on every order
Binding
Product Description
कैथरीन के एक अधूरे उपन्यास का एक अंश है: ‘‘इस जीवन को जियो, जूलियट। क्या शॉपेन अपनी आकांक्षाओं को, अपनी नैसर्गिक इच्छाओं को पूरा करने से डरा था? नहीं, इसीलिए वह इतना महान है। तुम ठीक उसी चीज को अपने से दूर क्यों कर रही हो जिसकी तुम्हें जरूरत है - परम्पराओं की वजह से? अपनी नैसर्गिकता को इस तरह बौना क्यों बनाती हो, क्यों अपना जीवन बरबाद करती हो?...तुमने उन सबसे आंखें मंूद ली हैं, कान बन्द कर लिये हैं जिसके लिए कोई इनसान जी सकता है।’’ जीने के लिए यह उद्बोधन, परम्पराओं और रूढ़ियों का विरोध, यह विचार कि भविष्य अपनी इच्छाओं से भी बनता है, यह मैन्सफील्ड के लेखन का केन्द्रीय तत्व है। यहां जो बातें सपाट ढंग से कह दी गई हैं, आगे अपनी कहानियों के ताने-बाने में इस सोच के धागों को करीने से बुनना उसने सीख लिया। सामाजिक यथार्थ, कमजोरी के प्रति सहानुभूति और बाद के दौर में, अन्तश्चेतना पर जोर उसकी कहानियों का मूल तत्व है। उसके सभी कहानी संग्रहों का रूसी तथा सोवियत संघ की अन्य भाषाओं मंे अनुवाद हुआ और वह वहां बेहद लोकप्रिय रही।