Skip to content

Kankal

by Jaishankar Prasad
₹ 120.00
Binding
Product Description
'कंकाल' भारतीय समाज के विभिन्न संस्थानों के भीतरी यथार्थ का उद्‌घाटन करता है । समाज की सतह पर दिखायी पड़नेवाले धर्माचार्यों, समाज- सेवकों, सेवा-संगठनों के द्वारा विधवा और बेबस स्त्रियों के शोषण का एक प्रकार से यह सांकेतिक दस्तावेज है । आकस्मिकता और कौतूहल के साथ-साथ मानव-मन के भीतरी पर्तों पर होनेवाली हलचल इस उपन्यास को गहराई प्रदान करती है । हदय-परिवर्तन और सेवा-भावना स्वतन्त्रता- कालीन मूल्यों से जुड़कर इस उपन्यास में संघर्ष और अनुकूलन को भी सामाजिक कल्याण की दृष्टि का माध्यम बना देते हैं । उपन्यास अपने समय के नेताओं और स्वयं- सेवकों के चरित्रांकन के माध्यम से एक दोहरे चरित्रवाली जिस संस्कृति का संकेत करता और बनते हुए जिन मानव-सम्बन्धों पर घंटी और मंगल के माध्यम से जो रोशनी फेंकता है वह आधुनिक यथार्थ की पृष्ठभूमि बन जाता है । सर्जनात्मकता की इस सांकेतिक क्षमता के कारण यह उपन्यास यथार्थ के भीतर विद्यमान उन शक्तियों को भी अभिव्यक्त कर सका है जो मनुष्य की जय-यात्रा पर विश्वास दिलाती है ।