BackBack
-10%

Karmbhoomi

Munshi Premchand (Author)

Rs 157.50 – Rs 382.50

PaperbackPaperback
HardcoverHardcover
Rs 175.00 Rs 157.50
Description
अपने वक्त के सच को पेश करने का प्रेमचंद का जो नजरिया था, वह आज के लिए भी माकूल है । गरीबों और सताये गये लोगों के बारे में उन्होंने किसी तमाशबीन की तरह नहीं, एक साझीदार की तरह से लिखा । -फैज अहमद फैज समाज-सुधारक प्रेमचंद से कलाकार प्रेमचंद का स्थान कम महत्वपूर्ण नहीं है । उनका लक्ष्य जिस सामाजिक संघर्ष और प्रवर्तन का चित्रित करना रहा है, उसमें वह सफल हुए हैं । -डॉ. रामविलास शर्मा कलम के फील्ड मार्शल, अपने इस महान पुरखे को दिल में अदब से झुककर और गर्व से मैं रॉयल सैल्युट देता हूँ । - अमृतलाल नागर
Additional Information
Binding

Paperback, Hardcover