BackBack
-10%

Kuchh Kahaniyan : Kuchh Vichar

Vishwanath Tripathi (Author)

Rs 300.00 Rs 270.00

HardcoverHardcover
Description
रचना और पाठक के बीच समीक्षक या आलोचक नाम की तीसरी श्रेणी जरूरी है या नहीं, यह शंका पुराणी है ! सामाजिक या राजनितिक जरूरत के रूप में यह श्रेणी अपनी उपादेयता बार-बार प्रमाणित करती रही है ! लेकिन साहित्यिक जरूरत के रूप में ? यह ख़ास जरूरत दरअसल न हमेशा पेश आती है और न पूरी होती है ! यह जरूरत तो बनानी पड़ती है ! आलोचना या समीक्षा की विरली ही कोशिशें ऐसी होती हैं जो पाठक को रचना के और-और करीब ले जाती हैं, और-और उसे उसके रस में पगाती हैं ! ये कोशिशें रचना के सामानांतर खुद में एक रचना होती हैं ! मूल के साथ एक ऐसा रचनात्मक युग्म उनका बंटा है कि जब भी याद आती हैं, दोनों साथ ही याद आती हैं ! इस पुस्तक में संकलित समीक्षाएँ ऐसी ही हैं ! बडबोलेपन के इस जमाने में विश्वनाथ त्रिपाठी ने एक अपवाद की तरह हमेशा 'अंडरस्टेटमेंट' का लहजा अपनाया है ! उनके लिखे पर ज्यादा कहना भी अनुचित के सिवाय और कुछ नहीं है ! इतना कहना लिकिन जरूरी लगता है कि कुछ स्वातंत्रयोत्तर हिंदी कहानियों पर लिखी ये समीक्षाएँ पढने के बाद वे कहानियां फिर-फिर पढने को जी करता है ! हमारे लिए वे वही नहीं रह जातीं, जो पहले थीं !
Additional Information
Binding

Hardcover