Skip to content

Kuchh Yadein, Kuchh Batein

by Amarkant
Original price ₹ 300.00
Current price ₹ 270.00
Binding
Product Description
इस पुस्तक में हिंदी के शीर्षस्थ कथाकार अमरकांत के संस्मरणों, आलेखों तथा साक्षात्कारों को संकलित किया गया है, जो अत्यंत दिलचस्प एवं महत्त्पूर्ण हैं ! इन रचनाओं में एक बड़े लेखक की परिवेश तथा सृजन-सम्बन्धी परिस्थितियों और संघर्ष कथा के साथ, उन अंग्रेजों एवं साथी लेखकों को आदर और आत्मीयता के साथ याद किया गया है, जिनसे उन्हें प्रेरणा, प्रोत्साहन और स्नेह मिला ! यहाँ प्रगतिशील आन्दोलन तथा नई कहानी आन्दोलन की वे घटनाएँ, बहसें और विवाद भी हैं, जिनसे कभी साहित्य जगत हिल गया था ! परन्तु अमरकांत जी ने इन आन्दोलनों की विशेषताओं और उपलब्धियों के साथ, उनके अंतर्विरोधों तथा दुर्बलताओं का तर्क-सम्मत विश्लेषण भी प्रस्तुत किया है और परिवर्तित समय में कहानी तथा प्रगतिशील लेखन की नई भूमिका को भी रेखांकित किया है ! इन रचनाओं के बीच कहानी लेखन की ओर प्रेरित करने वाले अमरकांत जी के शिक्षक बाबू राजेश प्रसाद तथा डॉ. रामविलास शर्मा है ! इनके साथ भैरवप्रसाद गुप्त, प्रकाशचंद्र गुप्त, शमशेर, मोहन राकेश, अमृत राय, रांगेय राघव, नामवर सिंह, राजेंद्र यादव, कमलेश्वर, शेखर जोशी आदि के अनूठे संस्मरण भी हैं ! निश्चय ही प्रत्येक हिंदी लेखक तथा साहित्य-प्रेमी पाठक के लिए यह जानना जरूरी है कि साहित्य-इतिहास के इन प्रतिष्ठित रचनाकारों के समबन्ध में अमरकांत क्या सोचते हैं ! मूल्यांकन की नई दृष्टि, हिंदी के कथा-परिदृश्य पर डाली गई रौशनी और जिवंत कथा-शैली के करण यह संकलन जहाँ साहित्यिक कृति के रूप में उत्कृष्ट है, वहीँ ऐतिहासिक दस्तावेज की तरह मूल्यवान भी !