Skip to product information
1 of 1

Manav-Deh Aur Hamari Deh-Bhashayen

Manav-Deh Aur Hamari Deh-Bhashayen

by Ramesh Kuntal Megh

Regular price Rs 2,250.00
Regular price Rs 2,500.00 Sale price Rs 2,250.00
Sale Sold out
Shipping calculated at checkout.

Author: Ramesh Kuntal Megh

Languages: Hindi

Number Of Pages: 1000

Binding: Hardcover

Package Dimensions: 9.4 x 6.5 x 1.8 inches

Release Date: 01-01-2015

Details: यह एक विलक्षण संहिता है जो मानवदेह तथा अनेकानेक देह्भाषाओं के विश्वकोश जैसी है ! इसे अध्ययन-कक्ष, श्रृगार-मेज, ज्ञान-परिसंवाद तथा रात्रि-शय्या में बेधड़क पास एवं साथ में रखना वांछनीय होगा ! यह अद्यतन ‘देह धुरीण विश्कोश’ अर्थात अकुंठ ‘बॉडी इनसाइक्लोपीडिया’ है ! पंद्रह वर्षो की इतस्ततः अन्विक्षा-अन्वेषण-अनुप्रयोग से यह रचनी गई है ! इसके लिए ही कृती-आलोचिन्तक को निजी तौर पर अमेरिका में मिशिगन (डेट्राइट) में अपनी बेटी मधुछंदा के यहाँ प्रवास करना पड़ा था ! इसका प्रत्येक पन्ना, रेखाचित्र, चित्र चार्ट सबूत हैं कि “मानवदेह और हमारी देह्भाषाएं” अंतर-ज्ञानानुशासनात्मक उपागम द्वारा समाजविज्ञानों, कला, साहित्य, समाजेतिहास आदि से संयुक्त ‘सांस्कृतिक-पैटर्न’ का भी एक प्रदर्श है ! तथापि इसके निर्णायक तो आप ही हैं !! यह ‘ग्रन्थ’ क्षयिष्णु कुंठाओं, रूढ़ वर्जनाओं-अधोगामी पूर्वाग्रहों के विरुद्ध, अतः उनसे विमुक्त होकर, शालीनता अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता ततः आम आदमी की बेहतर भोतिक जिंदगानी की समझदारी से प्रतिबद्ध है ! इसमें भारत, रूस, अमेरिका, रोम, मेक्सिको, इजिप्त के कला-अलबमों तथा ग्राथाकारों और मयूज़ियमो का भी नयाग इस्तेमाल हुआ है ! यह दस से भी जयादा वर्षो की तैयारी द्वारा अमेरिका-प्रवास में संपन्न हुआ है ! लक्ष्य है : असंख्य-बहुविध प्रासंगिक सूचनाएँ देना, ज्ञान के बहुआयामी-अल्पज्ञात क्षितिजों को खोजना, तथा मानवदेह और उसकी विविध देह्भाषाओं का वर्गीकरण, शिक्षण-प्रशिक्षण, तथा उदारीकरण करते चलना ! अथच ! सर्वात में अपने ही देश में उपेक्षित जनवादी राजभाषा हिंदी को 21वी शताब्दी की कलहंसनी बनाकर स्वदेश में देशकाल के पंखो द्वारा कालोत्तीर्ण उड़ानें देना ! सो, यह ग्रन्थ भारत एवं विश्व की सांस्कृतिक-ऐतिहासिक हंसझील-नीड के मुझ जैसे सादे बन्दे का हंसगान भी है ! अगर आपको पसंद आए तो इसे एक ‘आधुनिक देह्भागवत’ भी कह लें ! तो आपकी राय का दिन-प्रतिदिन इंतजार रहेगा-ऐसे विमर्श में ! हीरामन और नील्तारा के संकल्प से !

View full details

Recommended Book Combos

Explore most popular Book Sets and Combos at Best Prices online.