Skip to content

Manto : Ek Badnam Lekhak

by Vinod Bhatt
Rs 99.00
Add Rs 500.00 or more in your cart to get Free Delivery
Free Reading Points on every order
Binding
Product Description
उर्दू साहित्य में मंटो ही सबसे ज्यादा बदनाम लेखक है | सबसे बड़ा गुनाह यह कि वह समय से पिचहत्तर साल पहले पैदा हुआ | साथ ही उसने समय से पहले मर कर हिसाब बराबर कर दिया | उस समय उसने जो कुछ लिखा, वह अगर आज लिखा होता तो उसकी एक भी कहानी पर अश्लीलता का मुकदमा नहीं चला होता | उसमें भरपूर आत्मविश्वास था | वो जो कुछ भी लिखता, जैसे सुप्रीम कोर्ट का आखिरी फैसला ! कोई चुनौती दे तो वो सुना देता | उसकी कहानियों में वेश्याओं के दलाल पात्रों के वर्णन के बारे में किसी ने मंटो से कहा - रेडियों के दलाल जैसे आप बनाते है, वैसे नहीं होते | मंटो ने तीक्ष्ण दृष्टि से देखते हुए कहा-वो दलाल खुशिया में हूँ |...और यह जानकर हिंदी के प्रसिद्द कथाकार देवेन्द्र सत्यार्थी ने निःश्वास छोड़ते हुए कहा-काश में खुशिया होता....| मंटो की निजी पसंद-नापसंद अत्यंत तीव्र होती थी | मृत व्यक्ति की बस तारीफ ही की जानी चाहिए-मंटो ऐसा नहीं मानता था | उसका एक विचार-प्रेरक कथन है-ऐसी दुनिया, ऐसे समाज पर मैं हजार-हजार लानत भेजता हूँ, जहाँ ऐसी प्रथा है कि मरने के बाद हर व्यक्ति का चरित्र और उसका व्यक्तित्व लांड्री में भेजा जाए, जहाँ से धुलकर, साफ़-सुथरा होकर वह बाहर आत है और उसे फरिश्तों की कतार में खूंटी पर टांग दिया जाता है |