Skip to content
Limited Offer on Deewan e Meer & Rashmirathi Use coupon Code Sale20 Now!!!
Limited Offer on Deewan e Meer & Rashmirathi Use coupon Code Sale20 Now!!!

Maujood

by Rahat Indori
₹ 150.00
Binding
Product Description
राहत साहब मेरे बड़े पुराने दोस्त हैं, लगभग चालीस बरस से मेरी और उनकी दोस्ती कायम है । वो एक बड़े शायर और एक सच्चे इन्सान हैं । सच्चा इन्सान उसे कहता हूँ, जो अच्छाइयों को ही नहीं बुराइयों को भी प्यार कर सके । मेरा व्यक्तित्व भी अच्छाइयों और बुराइयों का नमूना है और राहत का भी । इसीलिए तो मैं कहता हूँ कि फरिश्तों के टूटे हुए ख्याब का एक नाम राहत है । राहत ने जीवन और जगत के विभिन्न पहलुओं पर जो गजले कही हैं, वो हिंदी-उर्दू की शायरी के लिए एक नया दरवाजा खोलती हैं । वर्तमान परिवेश पर जो टिप्पणी उन्होंने अपनी गजलों में की है वो आज की राजनीती, आज की साम्प्रदायिकता, धार्मिक पाखण्ड और पर्यावरण पर बड़े ही मार्मिक भाव से की है । छोटी-बड़ी बहर की गजल में उनका प्रतीक और बिम्ब विद्यमान है, जो नितान्त मौलिक और अद्वितीय है । उनके कितने ही शेर ऐसे हैं जो जुबान पर बरबस बैठे जाते हैं । नए रदीफ़, नई बहर, नए मजमून, नया शिल्प उनकी गजलों में जादू की तरह बिखरा है और पढने व् सुननेवाले सभी के दिलों पर छ जाता है । राहत की शायरी तसव्वुफ़ की उच्चतम ऊँचाइयों तक पहुंचती है । उनका ये शेर मेरे जेहन में अक्सर कौंधता रहता है – किसने दस्तक दी है दिल पर, कौन है? आप तो अन्दर हैं, बाहर कौन है... भाई राहत की सोच एक सच्चे इन्सान की सोच है । वो यद्यपि अपनी उम्र से अधेड़ दिखाई पड़ते हैं लेकिन आज भी उनके दिल में एक मासूम-सा बच्चा है जो बिना किसी भयके सच बोलना जनता है । मुझे विश्वास है कि पाठक उनके इस गजल-संग्रह ‘मौजूद’ को भी बड़े प्यार और सम्मान से ग्रहण करेंगे ।