Skip to content

Nadi Mein Khada Kavi

by Sharad Joshi
Original price Rs 400.00
Current price Rs 349.00
Add Rs 500.00 or more in your cart to get Free Delivery
Free Reading Points on every order
Binding
Product Description
शरद जोशी हिंदी के मूर्धन्य व्यंग्य शिल्पी हैं | उन्हें हिंदी गद्य के समृद्ध इतिहास में विलक्षण शैलीकार की प्रसिद्धि प्राप्त है | शरद जोशी सामाजिक यथार्थ का आलोचनात्मक परिक्षण करते हुए उसे व्यग्य-विदग्ध भाषा-शिल्प में अभिव्यंजित करते हैं | उनके व्यग्यालेखों में शब्द सामाजिक सरोकारों से जुड़कर अर्थ की नवीन आभा से संपन्न हो उठते हैं | एक तरह से उनके व्यंग्य बहुस्तरीय भारतीय समाज में परिवर्तन की प्रक्रिया पर गहरी दृष्टि रखते हैं और उसमे वैचारिक हस्तक्षेप करते हैं | ‘नदी में खड़ा कवि’ शरद जोशी के बहुचर्चित व्यग्यलेखों का संग्रह है | इसमें सम्मिलित व्यंग्य यह सिद्ध करते हैं कि लेखक ने पाखंड, कदाचार, विसंगति और अव्यवस्था के विरुद्ध शब्दों का सतर्क प्रयोग किया है | संवेदना की सिकुड़ती धरती और विचारों का बौना होता आसमान शरद जोधी की चिंता का केद्रीय विषय है | विशेषकर साहित्य-संसार से संदर्भित व्यग्य इस संग्रह का प्राण-तत्व है | कल्पना के कुलाबे मिलाने के स्थान पर शरद जी जीवंत यथार्थ के साक्ष्य चुनते हैं, फिर उनमे व्यापक मानवीय सत्य की तलाश करते हैं | इस प्रक्रिया में वे उन संधियों/दुरभिसंधियों की शिनाख्त करते हैं जिनसे छोटे-बड़े अवरोधों का जन्म होता है | उनके वाक्यों से निहितार्थ के जाने कितने आयाम खुलने लगते हैं | ‘यदि महाभारत फिर से लिखा जाए’ में वे लिखते हैं, ‘और आज का लेखक यों भी अकेलेपन का चित्रण करने का इच्छुक है | उसका हीरो अर्जुन नहीं, अश्वत्थामा है, जो कडवी स्मृतियों का भर ले आज भी जी रहा है, जो युद्ध के नाम से कांपता है |’ ऐसे अनेकानेक सन्दर्भ शरद जोशी के व्यग्यालेखों को स्मरणीय बनाते हैं | ‘नदी में खड़ा कवि’ एक ऐसे महँ व्यग्याकर की कृति है जिसने व्यंग्य को कालजयी सार्थकता प्रदान की है |