BackBack
-10%

Nath Sampraday

Hazari Prasad Dwivedi (Author)

Rs 225.00 – Rs 540.00

PaperbackPaperback
HardcoverHardcover
Rs 600.00 Rs 540.00
Description
आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी ऐसे वांडमय-पुरुष हैं जिनका संस्कृत मुख है, प्राकृत बाहु है, अपभ्रंश जघन है और हिंदी पाद है | नाथ सिद्धों और अपभ्रंश साहित्य पर उनके शोधपरक निबंध पढ़ते समय मन की आँखों के सामने उनका यह रूप साकार हो उठता है | नाथ सम्प्रदाय में गुरु गोरखनाथ के लोक-संपृक्त स्वरुप का उद्घाटन किया है | स्वयं द्विवेदीजी के शब्दों में 'गोरखनाथ ने निर्मम हथौड़े की चोट से साधु और गृहस्थ दोनों की कुरीतियों को चूर्ण-विचूर्ण कर दिया | लोकजीवन में जो धार्मिक चेतना पूर्ववर्ती सिद्धों से आकर उसके पारमार्थिक उद्देश्य से विमुख हो रही थी , उसे गोरखनाथ ने नयी प्राणशक्ति से अनुप्राणित किया |
Additional Information
Binding

Paperback, Hardcover