BackBack

Path Ka Paap

by Rangey Raghav

Rs 165.00 Rs 148.50 Save ₹16.50 (10%)

HardcoverHardcover
Description

हिन्दी के जाने-माने लेखक रांगेय राघव का उपन्यास ‘पथ का पाप’ एक कालजयी रचना है। अपनी अन्य कृतियों की तरह अपने इस उपन्यास के लिए भी उन्होंने ग्रामीण परिवेश को ही आधार बनाया है। ग्रामीणों में व्याप्त अंधविश्वास और धार्मिक आडम्बरों को रेखांकित करने के साथ-साथ लेखक ने पारिवारिक संबंधों पर आधुनिकता के प्रभाव को भी बखूबी दर्शाया है।