Skip to product information
1 of 1

Rashtra-Bhasha Aur Rashtriya Ekta : Dinkar Granthmala

Rashtra-Bhasha Aur Rashtriya Ekta : Dinkar Granthmala

by Ramdhari Singh Dinkar

Regular price Rs 116.00
Regular price Rs 125.00 Sale price Rs 116.00
Sale Sold out
Shipping calculated at checkout.
Binding

Language: Hindi

Number Of Pages: 120

Binding: Paperback

'जातियों का सांस्कृतिक विनाश तब होता है जब वे अपनी परम्पराओं को भूलकर दूसरों की परम्पराओं का अनुकरण करने लगती हैं। इस सांस्कृतिक दासता का भयानक रूप वह होता है, जब कोई जाति अपनी भाषा को छोड़कर दूसरों की भाषा अपना लेती है। फल यह होता है कि वह जाति अपना व्यक्तित्व खो बैठती है। उसके स्वाभिमान का विनाश हो जाता है!' स्वाधीनता के सात वर्ष बाद राष्ट्रकवि रामधारी सिंह 'दिनकर' द्वारा दी गई यह गम्भीर चेतावनी आज भी उतनी ही प्रासंगिक है, जितनी उस समय थी। दिनकर जी एक समर्थ कवि और ओजस्वी वक्ता ही नहीं, प्रखर चिन्तक भी थे। इस संग्रह में जो विचारोत्तेजक, सारगर्भित भाषण और लेख संगृहीत हैं, वे इस बात के प्रत्यक्ष उदाहरण हैं। 'राष्ट्रभाषा और राष्ट्रीय एकता' पुस्तक जिसका विषय प्राय: भाषा और संस्कृति है, देश की ज्वलन्त समस्याओं के प्रति दिनकर जैसे एक साहित्यकार का निर्भीक दृष्टिकोण भी है। संस्कृति की रचना और अभिव्यक्ति कला के माध्यम से होती है और भारतीय कला का यह स्वाभाव है कि वह यूरोप की कलात्मक भंगिमाओं से सामंजस्य नहीं बिठा सकती । बहुत प्राचीन काल में, यूनानी कला का सम्मिश्रण भारतीय कला से हुआ था । परिणामस्वरुप, गांधार-कला का जन्म हुआ । किन्तु वह भारत में टिक नहीं सकी, क्योंकि वह अभारतीय थी, क्योकि भारत की आत्मा अपने को इस मिश्रित कला के भीतर से व्यक्त नहीं कर सकती थी ।
View full details

Recommended Book Combos

Explore most popular Book Sets and Combos at Best Prices online.