BackBack
-10%

Sahibe Alam

Balwant Singh (Author)

Rs 135.00 – Rs 450.00

PaperbackPaperback
HardcoverHardcover
Rs 150.00 Rs 135.00
Description
प्रस्तुत दास्तान ‘साहिबे-आलम’ हिंदी-जगत के जाने-माने कथाकार बलवन्त सिंह का काल्पनिक चित्रण है | परन्तु प्रस्तुति इतनी सजीवता से की गयी है कि पाठक सोचने पर मजबूर हो जायेगा कि यह दास्तान है या सच्चा वाकया | यह दास्तान लाहौर से शुरू होती है जहाँ शेख साहब द्वारा भेजे गये हिंदुस्तानी जर्नलिस्ट को सफ़दर अली ‘साहिबे-आलम’ की दास्तान सुनाते हैं | पूरी दास्तान सुनकर पत्रकार कहने को विवश हो जाता है कि यह दास्तान है या सच्चा वाकया | मुगलकालीन एतिहासिक परिवेश में रची-बसी इस दास्तान में वातावरण में यथार्थ चित्रण के लिए उर्दू-फारसी के शब्दों का प्रयोग किया गया है | निश्चय ही, पाठक जब यह अनोखी, सशक्त और बेजोड़ दास्तान पढना शुरू करेगा तो अन्त तक पढने को विवश हो जायेगा |
Additional Information
Binding

Paperback, Hardcover