Skip to content

Samanya Manovigyan

by Ramprasad Pandey
Save Rs 244.00
Original price Rs 750.00
Current price Rs 506.00
  • ISBN: 9788126721900

Author: Ramprasad Pandey

Languages: Hindi

Number Of Pages: 399

Binding: Hardcover

Package Dimensions: 8.7 x 5.7 x 1.1 inches

Release Date: 01-08-2019

Details: मनोविज्ञान मानव-समस्याओं के सम्यक ज्ञान एवं समाधान के लिए समुचित दृष्टिकोण उपस्थित करता है | व्यक्ति में समुचित दृष्टिकोण का विकास हो, इसके लिए यह अनिवार्य है कि उसे मानव-जीवन-सम्बन्धी तथ्यों एवं सामान्य सिद्धांतों का ज्ञान हो तथा वह इनकी खोज की विधियों से भलीभांति परिचित हो | समुचित दृष्टिकोण का तात्पर्य है व्यक्ति की अवैयक्तिक (impersonal) एवं वस्तुनिष्ठ (objective) मनोवृत्ति | ऐसी मनोवृत्ति अपनाकर ही मनोवैज्ञानिक मानव-समस्याओं की खोज करता है | फलतः वह असामान्य व्यक्तियों (abnormal individuals) को परामर्श, सहायता अथवा चिकित्सा का पात्र समझता है, न कि घृणा का | चोरी, हत्या जैसे असामाजिक कार्यों में संलग्न अपराधियों के प्रति भी वह घृणा के बदले सहानुभूति की मनोवृत्ति रखता है | इसी भांति प्रतिदिन के जीवन में घटित होने वाले सभी व्यवहारों के प्रति भी, चाहे वे वांछनीय हों अथवा अवांछनीय, अवैयक्तिक एवं वस्तुनिष्ट मनोवृति अपनाकर ही विचार करता है |.