BackBack
-10%

Samkalin Sahitya Aur Mulya-Vimarsh

Alok Kumar Pandey (Author)

Rs 350.00 Rs 315.00

Description

ग्रंथकार की प्रस्तुत कृति विभिन्न विमर्शों की दृष्टि से महत्त्वपूर्ण है । यहाँ विमर्शकारों के दृष्टिकोणो कोउदघाटित करने के साथ ही जीवन के साथ उनकी संगति दिखाने का प्रयास किया गया है । इसके अंतर्गत आर्ष परंपरा से लेकर समकालीन परिवर्तन के आलोक में प्रकृति एवं पर्यावरणीय चिंतन तथा चिंता को उजागर किया गया है । समकालीन साहित्य के अगुआ कवि राजकमल चैधरी का समकालीनता बोध जितना सशक्त रहा है, उनका काव्यात्मक व्यक्तित्व और कृतित्व उतना ही विवादास्पद भी रहा है । हिंदी साहित्य में उनकी छवि का प्रचार जिस रूप में किया गया, वह अपने आप में अनोखा है । इसके उलट सच्चाई कुछ और है । इस संदर्भ को दुरुस्त करने का सराहनीय प्रयास किया गया है । इन सबके अतिरिक्त मानवाधिकार, स्त्री–विमर्श, दलित–विमर्श जैसी समकालीन प्रवृत्तियों को आलोकित करने वाले आलेखों के कारण यह रचना संग्रहणीय बन पड़ी है । वर्तमानयुगीन मूल्यहीनता को देखते हुए ‘मूल्य का आग्रह’ करने वाला यह संग्रह सार्थक भी है और ध्यानाकर्षक भी । यहाँ प्रयोग और व्यंग्य के साथ ही सहजता को संजोने की युक्ति को प्रश्रय देने के कारण साहित्य की संरक्षणशीलता और गतिशीलता का मणिकांचन संयोग देखने को मिलता है । कुल मिलाकर प्रस्तुत संकलन में रचनात्मकता और बौद्धिकता का संलयन है ।


View Condition Chart of Books

Almost New: These are books which have been read previously or are excess stock from bookshops and publishers. 

Good: These are the books which have have been sourced from book lovers and are in very good condition. They may have signs of ageing but will be in pretty good condition. 

Readable: These books may be old and have visible wear and tear signs.

Learn more about our condition criteria here.