BackBack

Tat Se Nahin... Paani Se Bandhati Hai Naav । तट से नहीं… पानी से बँधती है नाव

by Kohli,Baabusha

Rs 199.00

Description

Author: Kohli,Baabusha

Languages: Hindi

Number Of Pages: 176

Binding: Paperback

Package Dimensions: 7.7 x 5.0 x 0.5 inches

Release Date: 14-12-2021

Details: Product Description ‘तट से नही पानी से बँधती है नाव’ संग्रह की कविताएँ जीवन को उसके मूल तक जाकर खोजने की ज़िद से पैदा हुई हैं और ज़मीन से आसमान तक उसकी बहुत सारी तहों और उसके बहुत सारे रंगों को पकड़ने की बेचैनी के बीच रची गई हैं। इनमें जो सुख-दुख, चोट-चीख़, उल्लास-उछाह है, वह दरअसल कविता नहीं, जीवन को कविता के आईने में लिखने की कोशिश है। About the Author बाबुषा कोहली का परिचय जन्म : ६ फ़रवरी, १९७९, कटनी ( म.प्र.) वर्तमान में : केन्द्रीय विद्यालय, जबलपुर में कार्यरत। प्रकाशन : पहला कविता-संग्रह ‘प्रेम गिलहरी दिल अखरोट’ (२०१४) भारतीय ज्ञानपीठ से प्रकाशित व पुरस्कृत। गद्य-कविता-संग्रह ‘बावन चिट्ठियाँ’ (२०१८) रज़ा पुस्तक माला के अंतर्गत राजकमल से प्रकाशित व वागीश्वरी पुरस्कार से सम्मानित। कथेतर गद्य की पुस्तक ‘भाप के घर में शीशे की लड़की’ (२०२१) रुख़ पब्लिकेशंस से प्रकाशित। अन्य : दो शॉर्ट फ़िल्मों ‘जंतर’ तथा ‘उसकी चिट्ठियाँ’ का निर्माण व निर्देशन।