BackBack

Teen Talaq: Aastha ki Chaan-Been (तीन तलाक़: आस्था की छानबीन)

by Khurshid, Salman

Rs 395.00 Rs 355.50 Save ₹39.50 (10%)

Description

Author: Khurshid, Salman

Languages: English, Hindi

Number Of Pages: 260

Binding: Paperback

Package Dimensions: 8.3 x 5.2 x 0.6 inches

Release Date: 25-10-2018

Details: Product Description तीन तलाक़ या तलाक़-ए-बिदत मुस्लिम समाज में एक बहस का विषय बना हुआ है। मुस्लिम समाज में तीन तलाक़ का रिवाज क़ायम है। कई बार पति, अपनी पत्नी को तीन बार तलाक़ बोलकर इस रिवाज का दुरुपयोग करते हैं। भारत की सुप्रीम कोर्ट ने सायरा बानो बनाम यूनियन ऑफ़ इंडिया के एक महत्वपूर्ण मुक़दमे में अपना फैसला सुनाया। जिसमे तीन तलाक़ को असंवैधानिक और इस प्रथा को ख़त्म करने की बात कही। सलमान ख़ुर्शीद तीन तलाक़ के मुक़दमे का हिस्सा थे। उन्होंने ‘तीन तलाक़ : आस्था की खोजबीन’ किताब के जरिए इस मसले के विविध आयामों को समझने और समझाने की कोशिश की है। किताब में तीन तलाक़ पर आए अदालतों के पुराने निर्णयों का विश्लेषण किया गया है। लेखक ने क़ुरान, हदीस और अन्य इस्लामिक ग्रंथों के संदर्भों के जरिए भी तीन तलाक़ का विश्लेषण किया है। तीन तलाक़ के धार्मिक और न्यायिक पक्षों को समझने के लिए यह एक हैंडबुक है जिसे सहज और सरल भाषा में आम पाठकों के लिए लिखा गया है। English Translation Triple talaq, or talaq-e-bidat, is one of the most debated issues not only in India but also in other countries having a sizeable Muslim population. Muslim men have regularly misused this provision to divorce their wives instantly by simply uttering 'talaq' thrice. The Supreme Court of India, in the landmark judgement Shayara Bano v. Union of India, finally declared the practice unconstitutional. Salman Khurshid, who assisted in the case as amicus curiae, dives deep into the topic in this book and presents an accessible narrative. This is the Hindi translation of the English edition. About the Author सलमान ख़ुर्शीद, सुप्रीम कोर्ट में वरिष्ठ अधिवक्ता हैं। वे एक ख्याति प्राप्त लेखक और चर्चित हस्ती हैं। वे कांग्रेस पार्टी के सम्मानित सदस्य हैं nऔर भारत सरकार के कई केंद्रीय मंत्रालयों में मंत्री रह चुके हैं। English Translation Salman Khurshid is a senior advocate in the Supreme Court of India. He is the former Cabinet Minister of External Affairs, Law and Justice, and Corporate Affairs, Government of India. He is a celebrated author, well-known public figure, and member of the Indian National Congress.