Skip to content

Vairagya

by Geetanjali Shree
Save Rs 13.00
Original price Rs 125.00
Current price Rs 112.00
Add Rs 500.00 or more in your cart to get Free Delivery
Binding
नई व पुरानी कहानियों का यह संकलन गीतांजलि श्री की' लगभग एक दशक की साहित्यिक यात्रा का परिचय देता है । इसमें वैविध्य है विषय का, अंदाज का । प्रयोग है शिल्प का, भाषा का । और हमेशा ही एक सृजनात्मक साहस है कि यथातथ्यता- 'लिटरैलिटी' -को लाँघते हुए पथ, दृश्य, अनुभव, जमीन तलाशें । अलग-अलग बिंदुओं की टोह लेने की लालसा में नतीजा फटाफट समझाने की कोई हड़बड़ी नहीं । कहीं हमारी जटिल आधुनिकता के आयाम हैं, कहीं मानव-संबंधों की अनुभूतियाँ । कहानियाँ हमारे शाश्वत मुद्‌दों पर भी हैं-मृत्युबोध, जीवन की आस, आत्मीयता की चाह-पर ताजी संवेदना से भरपूर । कभी 'नजर' में हास्य है, कभी फलसफाना दुःख । भाषा की ध्वनियाँ ऐसी हैं कि शायद बहुतों को यहाँ कविता का रस भी मिलेगा । साहित्य-प्रेमियों के लिए एक सार्थक प्रयास ।